Follow by Email

सोमवार, 26 सितंबर 2011

'हम लिए बैठे हैं गुज़रे हुए दिन की पहचान'


(61)
इश्क़ क्या शय हो? जमाने की हवा कैसी हो
किसको मालूम है, कल बज़ए-वफ़ा* कैसी हो

हम लिए बैठे हैं गुज़रे हुए दिन की पहचान
जाने कल भीड़ में उस बुत की क़बा* कैसी हो

लफ़्ज़ का किसको भरोसा कि ख़बर ये भी नहीं
कल मेरे लब से जो निकले वो नवा* कैसी हो

उम्र जब दे चुके गुज़रे हुए लम्हों को तलाक़
जाने उस वक़्त मेरे घर की फ़िजा कैसी हो

आज की शब के तअल्लुक से कर कल का क़यास*
सुबह तक उसकी रविश किसको पता कैसी हो

1- बज़ए-वफ़ा*--वफ़ा का ढ़ग
2- क़बा*---वस्त्र
3- नवा*--आवाज़
4- क़यास*--अनुमान

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें