Follow by Email

शुक्रवार, 30 सितंबर 2011

'शहर की भीड़ से भागूँ तो है सहरा दरपेश'


(66)
शहर की भीड़ से भागूँ तो है सहरा दरपेश
नफ़अ* के नाम पे इक और ख़सारा दरपेश

थक के बाज़ार से लौटा हूँ तो घर सामने है
यानी तन्हाई को इक और ख़राबा* दरपेश

शुक्र करता था कि बादल तो धुँए का गुज़रा
अब है इक आग उगलता हुआ दरिया दरपेश

लफ़्ज़ को चीरूँ तो इक मुर्दा सदाक़त* मौजूद
आँख खोलूँ तो है मरता हुआ लम्हा दरपेश

आइना सौंप रहा है मेरा चेहरा मुझको
जिससे भागा था ये दिल है वही नक़्शा दरपेश
1- लाभ
2-वीराना
3-यथार्थ

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें