Follow by Email

शुक्रवार, 30 सितंबर 2011

'कौन आएगा यहाँ लेके सँदेशा उसका '


(67)
कौन आएगा यहाँ लेके सँदेशा उसका
खुशकुशी कर भी चुका पाक फ़रिश्ता उसका

अपने पहलू में खिलाता है वो हर शब कोई फूल
सुबह से पहले भुला देना है चेहरा उसका

ऐब की तरह न खुलना है महारत उसकी
बरमला प्यार का इज़हार है पेशा उसका

बेल-आकाश कि होकर भी न हो जुज़्बे-दरख़्त*
जिंदा रहने का ये उस्लूब* अनोखा उसका

बे-रिया* था तो कभी सख़्त भी होता वो शख़्स
वजह रंजिश की है सैयाल* रवैया उसका

1-वृक्ष का भाग
2-शैली
3-निश्छल
4-तरल

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें