Follow by Email

मंगलवार, 6 सितंबर 2011

'दिल के साथ-साथ हुआ है जिगर ख़राब'

(44)
कहते है जिसको हाल के है बर बसर ख़राब
जंगल कभी ख़राब था, अब है नगर ख़राब

कूचे में आशिक़ी के तअफ़्फ़ुन* बला का है
इतनी कहाँ थी, पहले कोई रहगुज़र ख़राब

समझे थे ख़ुशगवार हैं दिल की ख़राबियाँ
अब दिल के साथ-साथ हुआ है जिगर ख़राब

बाहर भटक रहे थे तो बस्ती ख़राब थी
अब घर में आ गए तो लगता है घर ख़राब

हमसे ख़राब-हाल कहाँ जाके चैन पाएँ
दुनिया इधर ख़राब है, उक़वा* उधर ख़राब

वो दिन गए कि छानते फिरते थे दश्त-दश्त
लगने लगा है अब तो मियाँ हर सफ़र ख़राब

1- तअफ़्फ़ुन*--दुर्गंध
2- उक़वा*--परलोक

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें