Follow by Email

सोमवार, 31 अक्तूबर 2011

'क्या कहेगी कौन तन्हा छोड़कर आया उसे'

(82)
क्या कहेगी कौन तन्हा छोड़कर आया उसे
क़ब्र की तारीकियों में होश ग़र आया उसे

रोकती ही रह गईं ममता-भरी बाहें मेरी
गोद ही धरती की अपना घर नज़र आया उसे

जिसमें महसूसात* की ख़ुशबू, न आवाज़ों के फूल
रास यह कैसे ख़राबे का सफ़र आया उसे

रस्मों-राहे-मेज़बानी* ख़त्म थी जिस पर कभी
अजनबी लगता है अब मेहमान घर आया उसे

जिसके रूख़* पर थी मुझे गर्दे-सफ़र भी नागवार
अपने हाथों से सपुर्दे-ख़ाक कर आया उसे

1-महसूसात*--अनुभूतियाँ
2-रस्मों-राहे-मेज़बानी*--अतिथियों का आदर-सत्कार
3-रूख़* --चेहरा

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें