Follow by Email

रविवार, 7 अगस्त 2011

'मेरा रिश्ता किसी मकान से था'

(22)
न कुछ ज़मीं से ताल्लुक, न आसमान से था
मेरे फ़रार का मतलब, फ़क़त उड़ान से था

कभी जो लौट भी आया तो किसके पूछूँगा
यहीं-कहीं मेरा रिश्ता किसी मकान से था

न जाने कौन-सी गुमनाम बस्तियों में गिरा
वो एक तीर जो निकला हुआ कमान से था

पसे-ज़बान भी कुछ है, ये सोचता कैसे
मेरे यक़ीं को ताअल्लुक तेरी ज़बान से था

न जाने कैसे उड़ा ले गई उसे भी हवा
वो इक बरक़ जो मुहब्बत की दास्तान से था

1-भाषा की तह में

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें