Follow by Email

मंगलवार, 26 जुलाई 2011

'प्यार का दिन डूबने लगा'

(5)
दिल तेरे इंतज़ार में कल रात भर जला
नर्गिस का फूल पिछले पहर तक खिला रहा

पहले तो अपने आपसे बेज़ारियां* बढ़ी
फिर यों हुआ कि तुझसे भी दिल ऊबने लगा

अच्छा हुआ कि सारे खिलौने बिखर गए
गुंचे, सुबू*, शराब, शफ़क़, चांदनी, सबा

सहरा की वुसअतों* में न जब आफ़ियत मिली
मैं शहर-शहर दिल का सुकूँ ढ़ूँढ़ता फिरा

जागा हुआ था नींद की मदहोशियों में हुस्न
देखा सकूते-शब* में बदन बोलता हुआ

पहले भी किसने प्यार के वादे वफ़ा किए
पहले भी कोई प्यार में सच बोलता न था

दफ़्तर से थक के लौट रहा था कि घर के पास
पहुँचा तो तेरे प्यार का दिन डूबने लगा

1-बेजारियाँ- उकताहट
2-सुबू- मदिरा-पात्र
3-सबा- समीर
4-वुसअतों- फैलाव
5-सकूते-शब- रात का सन्नाटा

1 टिप्पणी: