Follow by Email

सोमवार, 25 जुलाई 2011

'ढूँढे से भी घर न निकले'

(4)
तग़ाफुल* के बेरूह पैकर* न निकले
जिन्हें हमने चाहा वो पत्थर ना निकले
 
जो निकले तो कब? जब खुशी थी,न ग़म था
वो आँसू जो ग़म में भी अक्सर न निकले
 
जिन्हें कह के एक बार चुप लग गई थी
वो क़िस्से ज़बाँ से मुकर्रर* न निकले
 
भटकते फिरे हम तो कूचा-ब-कूचा
तुम्हारे ही दामन में पत्थर न निकले
 
वो पैकर जिन्हें हमने पूजा है बरसों
कभी अपने जिस्मों से बाहर न निकले
 
बयाबां में रौनक थी, वहशत घरों में
कभी हम तो ढूँढे से भी घर न निकले
 
1.तग़ाफुल--उदासीनता
2.पैकर---आकार
3.मुकरर्र--दोबारा

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें