Follow by Email

बुधवार, 19 अक्तूबर 2011

'रूख पे भूली हुई पहचान का डर तो आया'

(78)
रूख पे भूली हुई पहचान का डर तो आया
कम-से-कम भीड़ में इक शख़्स नज़र तो आया

मेरे सीने की तरफ़ खुद मेरे नाख़ुन लपके
आखि़र इस ज़ख़्म की टहनी पे समर तो आया

कट गया मुझसे मेरी ज़ात का रिश्ता लेकिन
मुझको इस शहर में जीने का हुनर तो आया

कुछ तो सोए हुए एहसास के बाज़ू थिरके
पाँव से उठके भँवर ता-ब-कमर तो आया

तन की मिट्टी में उगा ज़हर का पौधा चुपचाप
मुझमें बदली हुई दुनिया का असर तो आया

1- समर --फल
2- ता-ब-कमर--कमर तक

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें