Follow by Email

रविवार, 19 जून 2011

साएबां मेरा

धमक कहीं हो लरज़ती हैं खिड़कियां मेरी
घटा कहीं हो टपकता है साएबां मेरा।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें